Rivers System of India

Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi

नदियाँ

Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi

नदियों से हम सभी परिचित हैं । यह पानी की विशाल धारा होती है जो अपने स्त्रोत से निकलकर बहती हुई अन्त में किसी दूसरी नदी, झील या समुद्र में मिल जाती है ।

किसी भी नदी का प्रवाह निम्न मुख्य बातों पर निर्भर करता है –



  • नदी वाले क्षेत्र में वर्षा की मात्रा कितनी है । स्वाभाविक है कि वर्षा अधिक होने से नदी में जल का प्रवाह अधिक होगा और इस प्रकार वह एक बड़ी नदी बनती चली जायेगी।
  • जिस क्षेत्र में नदी बहती है, उसके धरातल की पारगम्यता क्या है । यदि धरातल बहुत अधिक नर्म होगा, तो नदी का पानी भूमि के अन्दर अधिक जायेगा । इससे नदी में पानी की मात्रा अपेक्षाकृत कम रहेगी ।
  • जिस क्षेत्र में नदी बहती है, उसकी आकृति कैसी है । यदि क्षेत्र ढ़लान वाला है, तो नदी सकरी और उसका प्रवाह तीव्र हो जायेगा ।
  • नदी वाले क्षेत्र में ऊगने वाली वनस्पति भी कुछ हद तक अपनी भूमिका निभाती हैं ।
  • जब नदी में पानी बहता है, तब उस दो शक्तियाँ कार्य कर रही होती हैं । पहली होती है-पृथ्वी की गुरुत्त्वाकर्षण शक्ति, जिसके कारण नदी ढ़लान की ओर अपने-आ बहती चली जाती है । दूसरा होता है घर्षण बल । यह धाराओं के आपस मंे टकराने से तथा तरंगों, नदी में बह रहे पत्थरों एवं तटों से पैदा होता है । यह घर्षण बल मूलतः नदी के प्रवाह का विरोध करता है ।

यही कारण है कि नदी का प्रवाह अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग होता है । चूँकि नदी के मध्य में घर्षण बल कम होता है, इसलिए वहाँ नदी का प्रवाह सबसे अधिक होता है । जबकि तटों पर यह प्रवाह सबसे कम हो जाता है, क्योंकि तटों के टकराने से जो घर्षण बल उत्पन्न होता है, वह प्रवाह की गति को मंद कर देता है ।

नदी की यात्रा के चरण –

जहाँ से नदी का जन्म होता है, उसे उसका स्रोत कहते हैं और जहाँ वह जाकर किसी अन्य में मिल जाती है, उसे मुहाना कहते हैं । इस बीच में नदी का पूरा स्वरूप पहाड़ पर, पठारों पर और मैदानों पर फैला होता है । नदी के जन्म से लेकर समाप्ति तक के जीवन को मुख्यतः निम्न तीन भागों में बाँटा गया है –
पहला – इसे नदी की ‘युवावस्था’ कहते हैं । चूँकि यह नदी की जवानी का काल होता है, इसलिए स्वाभाविक है कि यहाँ उसकी धारा की गति सबसे अधिक होती है । सामान्यतया अधिकाँश नदियों का उद्गम स्थल पहाड़/पहाडि़याँ होती हैं । इसलिए इस चरण में नदी तीखे ढलानों और सकरी घाटियों से होकर गुजरती है ।

अपनी यौवनावस्था में बहती हुई नदी निम्न स्वरूपों की रचना करती है –

अ/ पहाडों पर नदी के साथ छोटे-छोटे पत्थर भी बहते रहते हैं, जो नदी की तलहटी से टकराकर उसे काँटते/छाँटते रहते हैं । साथ ही यहाँ नदी के दोनों किनारे कठोर चट्टानों के बने होते हैं इसलिए यह अधिक चैड़ी नहीं हो पाती । इस प्रकार यहाँ गहरी और सकरी घाटियों वाले गड्ढे बनते हैं, जिसे ‘गार्ज’ कहते हैं । इस गार्ज की चैड़ाई कम किन्तु गहराई बहुत अधिक होती है ।



/ अपने इसी चरण में नदियाँ अंग्रेजी के ट के आकार की घाटियों का निर्माण करती हैं ।

/ केनियन भी इसी चरण में बनते हैं । यह एक प्रकार के बड़े गार्ज होते हैं, जो शुष्क क्षेत्रों में बनते हैं ।

/ बहती हुई नदी के रास्ते में जब कोई ऐसी बड़ी और कठोर चट्टान आ जाती है, जिसे नदी की धारा काट नहीं पाती, तो वहाँ यह धारा कई धाराओं में बँटकर पहने लगती है। इससे सतधाराएँ बनती हैं ।

/ पहाड़ पर बहती हुई नदी जब अचानक ही चट्टान पर से आकर गहरी खाई या घाटी में गिरने लगती है, तो उससे जलप्रपात का निर्माण होता है ।

दूसरा पहाड़ी क्षेत्र से उतरने के बाद नदी मैदानी क्षेत्र में आकर अपनी प्रौढ़ावस्था में पहुँच जाती है । चूँकि अब चट्टानी भूमि के स्थान पर कोमल भूमि आ चुकी है, इसलिए नदी की धारा अपने तटों को काटकर चैड़ा करने में सक्षम हो जाती है । पहाड़ी जैसे ढलान के अभाव में नदी की धारा का वेग भी कम हो जाता है । इसलिए वह अपने तल को गहरा नहीं कर पाती । इसका नतीजा यह होता है कि इस चरण में नदियाँ गहरी कम और चैड़ी अधिक हो जाती हैं । घाटी की चैड़ाई जैसे-जैसे बढ़ती जाती है, वह विसर्प (मियांडर) का निर्माण करती है । वस्तुतः मियांडर चैड़ी घाटी ही है ।

इस चरण में नदी अपने साथ बहते हुए पत्थरों का भी विक्षेप करती चलती है । इसके कारण कहीं-कहीं धारा अपने विसर्प से अलग हो जाती है, जिससे चाप झीलों का निर्माण होता है ।

तीसरा , यह वृद्धावस्था का काल है, जहाँ नदी समुद्र या झील में मिलने वाली होती है । यहाँ तक पहुँचते-पहुँचते नदी की गति काफी कम हो जाती है । इस चरण में नदियाँ मुख्यतः दो प्रकार की आकृतियों का निर्माण करती हैं:-

(अ) डेल्टा – बहती हुई नदी जब मंद गति से समुद्र में गिरती है, तो गिरने से पहले अपने साथ बहाकर लाये गये अवसादों को मुहाने पर धीरे-धीरे इकðा करती जाती है । कालान्तर में एकठा  किया हुआ यह अवसाद भूमि के रूप में अलग से दिखाई पड़ने लगता है । इस प्रकार डेल्टाओं का निर्माण होता है । वस्तुतः डेल्टा भूमि की त्रिभुजाकार एक ऐसी आकृति होती है, जो तीन ओर जमीन से घिरी होती है और एक ओर समुद्र समुद्र से जुड़ी हुई ।
(ब) वितरिका – कभी-कभी ऐसा भी होता है कि मुहाने पर अपरदन के जमा होने के कारण नदी की धारा कई धाराओं में बँट जाती है । इसे वितरिका (Distributaries)  कहते हैं ।

कुछ प्रमुख तथ्य –

  • अफ्रीका महाद्वीप की नील नदी विश्व की सबसे लम्बी (6690 किलोमीटर) नदी है । यह अलक्जेन्ड्रिया के निकट भूमध्य सागर में मिलती है ।
  • दक्षिण अमेरीका महाद्वीप की अमेजान नदी एंडीज पर्वत से निकलती है । यह नदी मुख्यतः ब्राजील में बहकर अन्ततः अटलांटिक सागर में गिरती है ।
  • यांग टीसीयांग चीन में बहने वाली प्रमुख नदी है ।
  • मिसीसिपी उत्तरी अमेरीका की प्रमुख नदी है । यह अमेरीका के इवास्का झील से निकलकर मेक्सिको की खाड़ी में गिरती है ।
  • मरे डार्लिंग आस्ट्रेलिया महाद्वीप की नदी है, जो एल्पस से निकलकर हिन्द महासागर की एकाउंटर खाड़ी में गिरती है ।
  • वोल्गा रूस से निकलने वाली प्रमुख नदी है ।
  • डेन्यूब नदी जर्मनी के वेडन से निकलकर काला सागर में मिल जाती है ।

Go to Main Page



Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi, Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi, Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi
Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi, Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi, Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi
Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi, Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi, Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi
Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi, Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi, Drainage system of India, river system in India, Indian rivers and their tributaries pdf, Indian river system pdf, Geography notes for UPSC in Hindi

About the Author

You may also like these